Mukadma jitne ke liye dua

Mukadma jitne ke liye dua

Mukadma jitne ke liye dua

Mukadma jitne ke liye dua, “Ladai aur jhaghde ki wajah se mukadma hota hai. jab aap kisi mukadme me fas jate hai, to apko uss pareshani se bahar niklne ka koi rasta nazar nhi aata hai. samaj me kuch aise vayakti hai, jinki galati ki wajah se aap par mukadma ho jata hai. Mukadma chahe chhota ho ya bada, akhir me wo court me hi jata hai. Court me us mukadme par sahi fasla kiya jata hai. kuch logo ke paas mukadma ladne ke liye paise nhi hote hai. Isliye wo mukadma jitne ke liye dua padhte hai. Aur unki mukadme me jeet mil jati hai.

Ek baar kisi vayakti par mukadma ho jata hai, to wo court kachhari ke chakkar laga laga pagal ho jata hai. Aaj ghar me pati patni ke vich, baap bete ke vich, padosiyo se ladai ke karaan mukadma ho jata hai. Mukadma koi saalo tak chalta rahta hai. Lekin apko nyaya nhi mil pata hai. Agar aap juthe mukadme me fase hai. to kai tarah ki pareshani ka samana karna pad sakta hai.

Apke vakeel ne bhi mukadma jitne ke liye pura jor laga diya. Lekin apko lagta hai, ki aap yeh mukadma nhi jeet sakte to, uske liye aap mukadma jitne ke liye dua padhe. Insha allah ke fazlo karam se aap jald hi mukame me apni jeet hasil kar lenge. Aur aap izzat ke sath mukadma jeet jayege.

Mukadme me jeet ke liye dua 

Aksar apne dekha hoga hai, Kuch log paiso ke dam par mukadma jeet jate hai. Aur jo gareeb vayakti hota hai. Chahe wo sachha aur imandar vayakti kyo na ho. Wo mukadme me fasa rah jata hai. Court jane se koi khush nhi hota hai. court kachhari aur mukadme se har koi bachna chahta hai. lekin kabhi kabhi aisi paristithiya ban jati hai. Jab aap na chahte huye bhi mukadme me fas jate hai.

Aapne koi bhi galati na ki ho. Aapke upar bina kisi galati ke jutha case laga diya gya ho. Kuch log dhanvan aur talaqwar hote hai. jo apko court case me fasa dete hai. Jisse apko kahi saalo tak court case ke chakkar me adalaton ke chakkar katne pad jate hai. Jisse apki pareshani din pratidin badhti hi ja rhi hai. kisi bhi tarah ka mukadme me jeet ke liye dua ko apne kisi bhi namaz ke baad padhni hai. Quran ki 15ve paare ki surah bani israel ayat nambar. 81 ko 133 baar padhni hai.

Kuch log juthe mukadma me fas jate hai. Lakh khoshish ke baad bhi unke upar jo laga arop aur mukadma khatam hone ka naam nhi lata hai. Mukadma ladte ladte apke sabhi paise bhi khatam ho gya hai. mukadma jitne ke liye aapne zameen aur ghar tak garvi rakh diya hai. Lekin fir bhi apko mukadma jitne ke koi asaar nazar nhi aa rhe hai. Aap kuch islamic dua aur wazifa ki madad se mukadma jitne me kamyab ho sakte hai.

Mukadma jitne ki dua

Kya aap par kisi ne mukadma karwa diya hai? Aur aap mukadme me haar ka samna kar rhe hai. Mukadme me dushman aap par bhari pad rha hai. mukadma jinte ke liye aapne apna sab kuch dav par laga diya, mukadma jitne ki dua, yadi aap kanooni case me pad chuke hai. Aur apko usse nijat nhi mil rha ho. aap mukadma bhi kafi samay se lad rhe ho. Mukadme me apka paisa bhi kafi barbad ho chuka ho. To aap mukadma me jeet ke liye yah dua jarur padhe.

  • Jis ghar me yeh dua padhni hai, wo ghar aur jagah bilkul saaf kar leni hai.
  • Jo yeh dua padhega, uske kapde paak saaf hone chahiye.
  • Is dua ko ghar ke sabhi sadasy mil kar bhi padh sakte hai.
  • Yeh allah ke 4 naam hai, ya haleemu, ya aleemo, ya aliyu, ya ajimo ko apne 151000 baar padhna hai.
  • allah ke naam jaise likhe gye hai, inko waise hi padhna hai. na aage ho na hi piche ho.
  • Agar aap ek din me amal ko muqamal karte lete ho to tik hai. nhi to aap jyada din bhi le sakte ho.

Dosto kai baar aisa hota hai, vayakti apni bina kisi galati ke court kachari ke chakkar me fas jata hai. Bahut prayoso ke baad bhi andhkar hi nazar aata hai. Yeh baat sahi hai ki apki muskil se muskil pareshani allah ki dua se khatam ho jati hai. Bas uske liye aapko thoti si mehnat karni padti hai. Agar aap par koi mukadma chal rha hai. Aur apko usme haar ka dar sata rha hai, ya usme haar mil chuki hai. Aur aap aadalat me jakar usko jeet me badla chahte hai. To kuch dua padhne se apko mukadme me jeet asani se mil sakti hai.

 

मुकदमा जीतने के लिए दुआ हिंदी में

मुकदमा जीतने के लिए दुआ, “लड़ाई और झगड़े की वजह से मुकदमा होता है. जब आप किसी मुक़दमे में फस जाते है, तो आपको उस परेशानी से बाहर निकलने का कोई रास्ता नज़र नही आता है. समाज में कुछ ऐसे व्यक्ति है, जिनकी गलती की वजह से आप पर मुकदमा हो जाता है. मुकदमा चाहे छोटा हो या बड़ा, आखिर में वो कोर्ट में ही जाता है. कोर्ट में उस मुक़दमे पर सही फैसला किया जाता है. कुछ लोगो के पास मुकदमा लड़ने के लिए पैसे नही होते है. इसलिए वो मुकदमा जीतने के लिए दुआ पढ़ते है. और उनकी मुक़दमे में जीत मिल जाती है.

एक बार किसी व्यक्ति पर मुकदमा हो जाता है, तो वो कोर्ट कचहरी के चक्कर लगा लगा पागल हो जाता है. आज घर में पति पत्नी के बीच, बाप बेटे के बीच, पड़ोसियों से लड़ाई के कारण मुकदमा हो जाता है. मुकदमा कोई सालों तक चलता रहता है. लेकिन आपको न्याय नही मिल पता है. अगर आप झूठे मुक़दमे में फसे है. तो कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

आपके वकील ने भी मुकदमा जीतने के लिए पूरा जोर लगा दिया. लेकिन आपको लगता है, की आप यह मुकदमा नहीं जीत सकते तो, उसके लिए आप मुकदमा जीतने के लिए दुआ पढ़े. इंशा अल्लाह के फ़ज़्लो करम से आप जल्द ही मुक़ामे में अपनी जीत हासिल कर लेंगे. और आप इज़्ज़त के साथ मुकदमा जीत जायेंगे.

मुकदमा जीतने की दुआ

क्या आप पर किसी ने मुकदमा करवा दिया है? और आप मुक़दमे में हार का सामना कर रहे है. मुक़दमे में दुश्मन आप पर भारी पड़ रहा है. मुकदमा जिनते के लिए आपने अपना सब कुछ दाव पर लगा दिया. मुकदमा जीतने की दुआ, यदि आप कानूनी केस में पड़ चुके है. और आपको उससे निजात नहीं मिल रहा हो. आप मुकदमा भी काफी समय से लड़ रहे हो. मुक़दमे में आपका पैसा भी काफी बर्बाद हो चूका हो. तो आप मुकदमा में जीत के लिए यह दुआ जरूर पढ़े.

  1. जिस घर में यह दुआ पढनी है, वो घर और जगह बिलकुल साफ़ कर लेनी है.
  2. जो यह दुआ पढ़ेगा, उसके कपडे पाक साफ़ होने चाहिए.
  3. इस दुआ को घर के सभी सदस्य मिल कर भी पढ़ सकते है.
  4. यह अल्लाह के 4 नाम है, या हालीमु, या आलिमो, या अलियु, या अजीमो को अपने 151000 बार पढ़ना है.
  5. अल्लाह के नाम जैसे लिखे गये है, इनको वैसे ही पढ़ना है. न आगे हो न ही पीछे हो.
  6. अगर आप एक दिन में अमल को मुक़मल करते लेते हो तो ठीक है. नहीं तो आप ज्यादा दिन भी ले सकते हो.

दोस्तों कई बार ऐसा होता है, व्यक्ति अपनी बिना किसी गलती के कोर्ट कचहरी के चक्कर में फस जाता है. बहुत प्रयासो के बाद भी अंधकार ही नज़र आता है. यह बात सही है की आपकी मुश्किल से मुश्किल परेशानी अल्लाह की दुआ से खत्म हो जाती है. बस उसके लिए आपको थोड़ी सी मेहनत करनी पड़ती है. अगर आप पर कोई मुकदमा चल रहा है. और आपको उसमे हार का डर सता रहा है, या उसमे हार मिल चुकी है. और आप अदालत में जाकर उसको जीत में बदला चाहते है. तो कुछ दुआ पढ़ने से आपको मुक़दमे में जीत आसानी से मिल सकती है.

मुक़दमे में जीत के लिए दुआ

अक्सर आपने देखा होगा है, कुछ लोग पैसो के दम पर मुकदमा जीत जाते है. और जो गरीब व्यक्ति होता है. चाहे वो सच्चा और ईमानदार व्यक्ति क्यों न हो. वो मुक़दमे में फंसा रह जाता है.  कोर्ट जाने से कोई खुश नहीं होता है. कोर्ट कचहरी और मुकदमें से हर कोई बचना चाहता है. लेकिन कभी कभी ऐसी परिस्तिथिया बन जाती है. जब आप न चाहते हुए भी मुक़दमे में फस जाते है.

आपने कोई भी गलती न की हो. आपके ऊपर बिना किसी गलती के झूठा केस लगा दिया गया हो. कुछ लोग धनवान और तलाकवार होते है. जो आपको कोर्ट केस में फसा देते है. जिससे आपको कही सालो तक कोर्ट केस के चक्कर में अदालतों के चक्कर काटने पड़ जाते है. जिससे आपकी परेशानी दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है. किसी भी तरह का मुक़दमे में जीत के लिए दुआ को अपने किसी भी नमाज़ के बाद पढ़नी है. क़ुरआन की 15वे पारे की सौराह बनी इस्राएल आयत नंबर. 81 को 133 बार पढ़नी है.

कुछ लोग झूठे मुकदमा में फस जाते है. लाख कोशिश के बाद भी उनके ऊपर जो लगा आरोप और मुकदमा खत्म होने का नाम नहीं लेता है. मुकदमा लड़ते लड़ते आपके सभी पैसे भी खत्म हो गया है. मुकदमा जीतने के लिए आपने ज़मीन और घर तक गिरवी रख दिया है. लेकिन फिर भी आपको मुकदमा जीतने के कोई आसार नज़र नही आ रहे है. आप कुछ इस्लामिक दुआ और वज़ीफ़ा की मदद से मुकदमा जीतने में कामयाब हो सकते है.

Leave a Reply