Jinn Ka Amal Karne Ka Tarika

Jinn Ka Amal Karne Ka Tarika

Jinn Ka Amal Karne Ka Tarika

Jinn Ka Amal Karne Ka Tarika, “Agar aap jinn ka amal karne ja rhe hai, to sabse pahle jinn ke bare me jaankari honi bahut jaruri hai. Jab kisi insan ki mutyu ho jati hai, to uski atma ussi jagah gumati rahti hai. Agar kisi ki aatma ko icha purti nhi hoti hai, to wo jinn ka roop dharan kar leti hai.

अगर आप जिन्न का अमल करने जा रहे है, तो सबसे पहले जिन्न के बारे में जानकारी होनी बहुत जरुरी है. जब किसी इंसान की मृत्यु हो जाती है, तो उसकी आत्मा उसी जगह घूमती रहती है. अगर किसी की आत्मा को इच्छा पूर्ति नहीं होती है, तो वो जिन्न का रूप धारण कर लेती है.

Kuch jinn achhe hote hai, jo insan ki ichhao ko pura karne me unki madad karte hai. Wahi dusri or dekha jaye, to kuch jinn itne bure hote hai, wo sirf insan ko nuksan or preshan karte hai. Aaj hum apko Jinn ka amal karne ka tarika aur uski vidhi batayege.

कुछ जिन्न अच्छे होते है, जो इंसान की इच्छाओं को पूरा करने में उनकी मदद करते है. वही दूसरी और देखा जाये, तो कुछ जिन्न इतने बुरे होते है, वो सिर्फ इंसान को नुक्सान और परेशान करते है. आज हम आपको जिन्न का अमल करने का तरीका और उसकी विधि बताएंगे.

Jinn ka amal karne ke tarike bahut saare hai. Kuch amal muskil hote hai, to kuch amal bahut hi asan hote hai. Agar aap jinn ko apne vash me karke usse apni adhuri icchao ko pura karna chahte hai, to apko jinn ka amal karna hi padega.

जिन्न का अमल करने के तरीके बहुत सारे है. कुछ अमल मुश्किल होते है, तो कुछ अमल बहुत ही आसान होते है. अगर आप जिन्न को अपने वश में करके उससे अपनी अधूरी इच्छाओं को पूरा करना चाहते है, तो आपको जिन्न का अमल करना ही पड़ेगा.

Jinn ka Amal Hindi Me:

Jaisa ki aap sab jante hai, ki Jinn aag se bane hote hai. Jab kisi ghar me aag lag jati hai, to jinn uss ghar me apna ghar bana lete hai. Agar aap uss ghar me bait kar jinn ko kabu me karne ka amal karte hai, to jinn asni se apka gulam ban jayega. Jo hum apko jinn ka amal batayege, wo amal 100 saal purana hai. Bas aap is amal ko yakeen ke sath kare.

जैसा की आप सभी जानते है, की  जिन्न आग से बने होते है. जब किसी घर में आग लग जाती है, तो जिन्न उस घर में अपना घर बना लेते है. अगर आप उस घर में बैठ कर जिन्न को काबू में करने का अमल करते है, तो जिन्न असनी से आपका गुलाम बन जायेगा. जो हम आपको जिन्न का अमल बतायेगे, वो अमल 100 साल पुराना है. बस आप इस अमल को यकीन के साथ करे.

Aap is amal ko yeh amal sirf 40 din ka hai. Wa parhej jalali w jamali ka ahtamam kare. Nochandi jumerat ko 501 baar rozana ektalis yom tak pade. Awwal w akhir gyarah gyarah martwa durood ibrahimi bhi padhe. Uske baad 128 martba surahaalhmd sharif padhe.  Insha allah jakat ada ho jayegi. Amal raat ke barah bhje padhe. Hisar teen baar atulkuresi ka kare.

आप इस अमल को यह अमल सिर्फ 40 दिन का है. व परहेज जलाली व जमालि का अहतमाम करे. नौचंदी जुमेरात को 501 बार रोज़ाना एकतालीस योम तक पड़े. अव्वल अखिर ग्यारह ग्यारह मर्तवा दुरूद इब्राहीमी भी पढ़े. उसके बाद 128 मरतबा सुरहालहंद शरीफ पढ़े. इंशा अल्लाह जकात अदा हो जायेगी. अमल रात के बारह भजे पढ़े. हिसार तीन बार अतूलकुर्सी का करे.

Jinn Ka Amal Karne Ka Tarika:

Amal ko lajami tor par kacchi jameen par hi kare. Agar ghar me kacchi zameen na ho to fir farsh par paak mitti bicha kar amal kare. Padhai karne ke baad mitti ko samet kar ghar ki chhat par rakh de. Dusre din wahi mitti ko dobara bicha kar amal kare. Aur padhai ke baad mitti ko dobara samet kar ghar ki chhat par rakh de. Issi tarah 40 din tak lagatar kare.

नोट: अमल को लाजमी तोर पर कच्ची जमीन पर ही करे. अगर घर में कच्ची जमीन न हो तो फिर फर्श पर पाक मिट्टी बिछा कर अमल करे. पढाई करने के बाद मिट्टी को समेट कर घर की छत पर रख दे. दूसरे दिन वही मिटटी को दोबारा बिछा कर अमल करे. और पढाई के बाद मिट्टी को दोबारा समेट कर घर की छत पर रख दे. इसी तरह 40 दिन तक लगातार करे.

Agar amal ke doran apko dar lagta hai, to aap apni akhe bhi band kar sakte hai. Jab bhi hajirat ki jarurat pesh aaye to kisi tifle nabalig ko apne rubru bitaye aur uske daye hath ki hatheli ya baye hath ke nakhoon par kajal lagaye. Aur mamul ko hidayat kare ki wah kajal ki syahi par nigaah rakhe. Ab aamil gyara martba durood sharif padh kar 25 mudraja wala ajeemat padh kar mamul par dam kare.

अगर अमल के दौरान आपको डर लगता है, तो आप अपनी आँखें भी बंद कर सकते है. जब भी हाज़िरात की जरुरत पेश आये तो किसी तिफ़्ले नाबालिग को अपने रुबरु बिताये और उसके दाएं हाथ की हथेली या बाएं हाथ के नाखून पर काजल लगाये. और मामूल को हिदायत करे की वह काजल की स्याही पर निगाह रखे. अब आमिल ग्यारा मर्तबा दरूद शरीफ पढ़ कर 25 मुद्राजा वाला अजीमत पढ़ कर मामूल पर डैम करे.

Jinn se aap sirf jaiz kaam hi karwa sakte hai. Agar aap najaiz kaam karwate hai, to apki jaan ko bhi khatra ho sakta hai. Is amal ki izazat lena lazmi hai.

Leave a Reply