Bache ki salamati ki dua

Bache ki salamati ki dua

Bache ki salamati ki dua

Bache ki salamati ki dua, “Har maa baap apne bache ki salamati ki dua allah se mangte hai. Jab unke bacho ko pareshani hoti hai, to bacho se jyada maa baap ko hoti hai. Jab bache chhote hote hai, to maa baap unki hifazat ke liye molvi ji se taweez banwate hai. Taki unke bacho ko kisi ki buri nazar na lage. Jab bache bade ho jate hai, to wo zindagi ki pareshaniyo se samana karta hai. Maa baap apne bacho ko kabhi bure halat me nhi dekhna chahte hai. Isliye wo bache ki salamati ki dua padhte hai.

Duniya me maa baap ke jaisa rishta koi nhi hota hai. Zindagi me koi mukam hasil karne karna hota hai, to usko pane ke liye bahut saari pareshani aur musibat ka samana karna padta hai. Maa baap  tab tak apne bacho ki salamati kidua karte hai, jab tak wo zinda rahte hai. Jab bacho ko thoda ka bukhar ya bimar ho jate hai, to maa baap ghabra jate hai. Kyoki wo apne bacho se bahut pyar karte hai.

Bacho ki salamati ka wazifa

Parents ka pyar hi bacho ko free me milta hai, baki zindagi guzarne ke liye koi na koi kimat jarur chukni padti hai. Aksar parents apne bacho ki nazar e bad aur saitan se hifazat ke liye wazifa padhte hai. Kyoki une dar rahta hai, ki unke bacho ko kuch ho na jaye. Isliye wo har waqt apne bacho ki salamati ka wazifa padhte rahte hai. Bache chahe kitne hi bade kyo na ho jaye. Wo apne parents ke bache hi rahte hai.

jab parents apne bacho ko kisi mahfil me lekar jate hai, to unko nazar lag jati hai. Isliye maa apne bacho ko kala tika lagti hai. Taki duniya ki buri nazar uske bache par na pade. Agar kisi ne allah par yakeen na karke ek chhote se kale tike par yakeen kar liya, to allah usko apne hal par chod deta hai. Isliye bacho ki salamati ke liye wazifa jarur padhe. aap apne bacho par surah falaq aur surah naas se dam kijiye. Insha allah apke bacho ko kabhi buri nazar nhi lagegi. Jo nazar lagi hui hai wo bhi utar jayegi.

Bacho ki hifazat ke liye amal

Ghar me sukoon tab hi aata jab bache khush rahte ho. Log humse puchte hai ki bacho ki hifazat ke liye konsa amal behtar rahta hai. Agar bacho ko kisi ki buri nazar lag gai hai. Nazar lagne ke baad wo khana pina band kar diya hai. Uska kisi bhi kaam me man nhi lagta hai. Akelapan mahsoos karta hai. Ghar me kisi se baat nhi karta hai. In sabhi pareshani se bachne ke liye aap pahle hi iska ilaj kar lijiye.

Bacho ki hifazat ke ke liye amal bahut saare hai. Lekin amal kis waqt kiya jaye. Yeh sabhi ko maloom nhi hota hai. Isliye wo galat amal kar dete hai. Agar aap apne bacho ki salamati ke liye amal karna chahte hai, to aap anwar bhai se ek baar jarur rabta kare. Anwar bhai ko bacho ki salamati aur hifazat ke amal bahut maloom hai.

बच्चे की सलामती की दुआ हिंदी में 

हर माँ बाप अपने बच्चे की सलामती की दुआ अल्लाह से मांगते है. जब उनके बच्चों को परेशानी होती है, तो बच्चों से ज्यादा माँ बाप को होती है. जब बच्चे छोटे होते है, तो माँ बाप उनकी हिफाज़त के लिए मौलवी जी से तावीज़ बनवाते है. ताकि उनके बच्चों को किसी की बुरी नज़र न लगे. जब बच्चे बड़े हो जाते है, तो वो ज़िन्दगी की परेशानियों से सामना करता है. माँ बाप अपने बच्चों को कभी बुरे हालात में नहीं देखना चाहते है. इसलिए वो बच्चों की सलामती की दुआ पढ़ते है.

दुनिया में माँ बाप के जैसा रिश्ता कोई नहीं होता है. ज़िन्दगी में कोई मुकाम हासिल करने करना होता है, तो उसको पाने के लिए बहुत सारी परेशानी और मुसीबत का सामना करना पड़ता है. माँ बाप तब तक अपने बच्चों की सलामती कि दुआ करते है, जब तक वो ज़िंदा रहते है. जब बच्चो को थोडा का बुखार या बीमार हो जाते है, तो माँ बाप घबरा जाते है. क्योंकि वो अपने बच्चो से बहुत प्यार करते है.

बच्चो की सलामती का वज़ीफ़ा

पेरेंट्स का प्यार ही बच्चों को फ्री में मिलता है, बाकि ज़िन्दगी गुजरने के लिए कोई न कोई कीमत जरूर चुकनी पड़ती है. अक्सर पेरेंट्स अपने बच्चों की नज़र बद और सैतान से हिफाज़त के लिए वजीफा पढ़ते है. क्योंकि उन्हे डर रहता है, की उनके बच्चो को कुछ हो न जाये. इसलिए वो हर वक़्त अपने बच्चों की सलामती का वजीफा पढ़ते रहते है. बच्चे चाहे कितने ही बड़े क्यों न हो जाये. वो अपने पेरेंट्स के बच्चे ही रहते है.

जब पेरेंट्स अपने बच्चों को किसी महफ़िल में लेकर जाते है, तो उनको नज़र लग जाती है. इसलिए माँ अपने बच्चो को काला टीका लगती है. ताकि दुनिया की बुरी नज़र उसके बच्चे पर न पड़े. अगर किसी ने अल्लाह पर यकीन न करके एक छोटे से काले टीके पर यकीन कर लिया, तो अल्लाह उसको अपने हाल पर छोड़ देता है. इसलिए बच्चों की सलामती के लिए वज़ीफ़ा जरुर पढ़े. आप अपने बच्चो पर सौराह फ़लक़ और सौराह नास से दम कीजिये. इंशा अल्लाह आपके बच्चो को कभी बुरी नज़र नहीं लगेगी. जो नज़र लगी हुई है वो भी उतर जाएगी.

बच्चों की हिफाज़त के लिए अमल

घर में सुकून तब ही आता जब बच्चे खुश रहते हो. लोग हमसे पूछते है की बच्चों की हिफाज़त के लिए कौनसा अम्ल बेहतर रहता है. अगर बच्चो को किसी की बुरी नज़र लग गई है. नज़र लगने के बाद वो खाना पीना बंद कर दिया है. उसका किसी भी काम में मन नही लगता है. अकेलापन महसूस करता है. घर में किसी से बात नहीं करता है. इन सभी परेशानी से बचने के लिए आप पहले ही इसका इलाज कर लीजिये.

बच्चो की हिफाज़त के लिए अमल बहुत सारे है. लेकिन अमल किस वक़्त किया जाये. यह सभी को मालूम नहीं होता है. इसलिए वो गलत अमल कर देते है. अगर आप अपने बच्चों की सलामती के लिए अमल करना चाहते है, तो आप अनवर भाई से एक बार जरूर रब्ता करे. अनवर भाई को बच्चों की सलामती और हिफाज़त के अमल बहुत मालूम है.

Leave a Reply